चिन्मयानंद का ‘आनंद’

Read Time: 8 minutes

स्वामी चिन्मयानंद को उन्हीं के लॉ कॉलेज से एलएलएम की एक छात्रा से रेप के आरोप में यूपी पुलिस और एसआईटी गिरफ्तार कर चुकी है और अब वह न्यायिक हिरासत में हैं। चिन्मयानंद पर इस मामले से पहले भी साल 2011 में रेप समेत कई गंभीर आरोप लग चुका है।

  • लखनऊ से विवेक श्रीवास्तव

स्वामी चिन्मयानंद को उन्हीं के लॉ कॉलेज से एलएलएम की एक छात्रा से रेप के आरोप में यूपी पुलिस और एसआईटी गिरफ्तार कर चुकी है और अब वह न्यायिक हिरासत में हैं। चिन्मयानंद पर इस मामले से पहले भी साल 2011 में रेप समेत कई गंभीर आरोप लग चुका है। तब केंद्रीय गृह राज्य मंत्री रहते स्वामी चिन्मयानंद के संपर्क में आई एक महिला, जिसे इन्होंने अपने एक विद्यालय में प्राचार्य बनाया था, ने 30 नवम्बर 2011 को दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया था। हालांकि, तब वह गिरफ्तारी से बच गए थे। पिछले साल मौजूदा राज्य सरकार ने इस मुकदमे को वापस लेने का प्रयास किया था लेकिन कोर्ट ने अनुमति नहीं दी।
हालांकि, इस बार चिन्मयानंद को गिरफ्तार तो कर लिया गया है लेकिन पीडि़ता और उसके पिता की बार-बार मांग के बावजूद मुकदमें में उनके खिलाफ यौन शोषण की धारा दर्ज नहीं की गयी है, जिससे सरकार और पुलिस पर कई सवाल उठ रहे हैं।

क्या है मौजूदा मामला

लॉ कॉलेज की एक छात्रा ने 9 सितंबर को मीडिया के सामने आकर चिन्मयानंद के खिलाफ रेप का मुकदमा दर्ज करने की मांग की। इसे लेकर सोशल मीडिया में कई वीडियो वायरल हुई जिसमें चिन्मयानंद नंगी हालत में आरोप लगाने वाली लडक़ी से शरीर की मालिस कराते दिखे। पीडि़ता ने आरोप लगाया कि चिन्मयानंद उसके साथ लगातार दुष्कर्म करता रहा और बाद में कैमरे से उसने साक्ष्य भी गायब करा दिए।
पुलिस ने पहले एफआईआर दर्ज करने में हीला हवाली की लेकिन बाद में जनदबाव में एफआईआर दर्ज कर चिन्मयानंद को गिरफ्तार तो कर लिया गया लेकिन उन्हें जेल की बजाय इलाज के बहाने अस्पताल दर अस्पताल घुमाया जाता रहा।

सुखदेवानंद की विरासत का ‘स्वामी’ चिन्मयानंद

1947 में शाहजहांपुर में ‘गांधी फैज-ए-आजम’ नाम से एक कॉलेज स्थापित हुआ तो वहां हिन्दू कट्टरता को उभारने में लगे सुखदेवानंद को यह कॉलेज मुस्लिम परस्त जान पड़ा और इसकी प्रतिक्रिया में उन्होंने ‘दैवी संपाद संस्कृति महाविद्यालय’ की स्थापना की। इसके बाद 1951 में श्री दैवी संपाद इंटर कॉलेज और 1964 में स्वामी सुखदेवानंद पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज खुला। सुखदेवानंद के आश्रम हरिद्वार, ऋषिकेश और शाहजहांपुर में स्थित थे। उनके देहांत के बाद बुलंदशहर के रहने वाले उनके शिष्य स्वामी धर्मानंद ने जिम्मेदारी संभाली। 1991 में धर्मानंद का देहांत हुआ तो 20 वर्ष की आयु में घर छोडक़र शाहजहांपुर पहुंचने वाले गोण्डा के कृष्णपाल सिंह उर्फ स्वामी चिन्मयानंद ने ट्रस्ट की जिम्मेदारी संभाली।

चिन्मयानंद का राजनीतिक सफर

राम मंदिर आन्दोलन के उभार के दौर में चिन्मयानंद की नजदीकी बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी से बढ़ी, जिसके सहारे उन्होंने अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षा को परवान चढ़ाना शुरू किया। यह वह दौर था जब हिंदुत्व का पताका लहराने के लिए बेचैन बीजेपी ने तमाम साधुु-संतोंं को संसद में एंट्री दिलानी शुरू की थी। वीपी सिंह की सरकार गिरने के बाद 1991 में हुए चुनाव में बीजेपी ने चिन्मयानंद को शरद यादव के खिलाफ बदायूं से टिकट दिया। उन्होंने शरद यादव को 15,000 वोटों से पटखनी दे दी। इसके बाद ये 12वीं लोकसभा (1998) में भी चुने गये और केंद्रीय राज्य मंत्री बने।

पीडि़ता को जेल

पीडि़ता द्वारा दुष्कर्म का आरोप लगाये जाने के तुरंत बाद चिन्मयानंद ने पीडि़ता, उसके भाई और दोस्त के खिलाफ ब्लैकमेल करने और 5 करोड़ रुपया फिरौती मांगने की एफआईआर दर्ज करायी। जिसके बाद पुलिस ने इन सभी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

पूूर्व केंद्रीय गृहराज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद ऐसे अकेले स्वामी या संत नहीं हैं, जिनके ऊपर रेप के आरोप लगे हों। इनके अलावा भी देश में कई स्वामी और संत रहे हैं, जिन्होंने भगवा चोले पर कालिख पोती है। इनमें से कई बाबाओं पर रेप के आरोप सही साबित हुए हैं और वे जेल में सजा भी काट रहे हैं।

आसाराम बापू

अपनी ही शिष्या से रेप के आरोप में जोधपुर की जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे आसाराम बापू का पूरा नाम आसूमल थाऊमल सिरुमलानी है। आसाराम बापू दुनियाभर में 10 हजार करोड़ रुपये से अधिक की मिल्कियत वाले 400 से ज्यादा आश्रमों का स्वामी है। आसाराम के खिलाफ हत्याए बलात्कार और हत्या के प्रयास के साथ-साथ आश्रमों के लिए जमीन हड़पने का आरोप भी है। आसाराम पर एक नाबालिग ने 2013 में दिल्ली के कमला नेहरू बाजार थाने में बलात्कार का मुकदमा दर्ज कराया था। इस पर दो बच्चों की नरबलि, सूरत की दो बहनों के बलात्कार और नौ गवाहों पर जानलेवा हमलों में तीन की हत्या जैसे गंभीर आरोप हैं।

नारायण साईं

कथा वाचन और धर्म के धन्धे की बदौलत 5000 करोड़ रुपये से अधिक का साम्राज्य खड़ा कर लेने वाला नारायण साईं इन दिनों अपने ही आश्रम की एक युवती से बलात्कार के मामले में उम्रकैद और एक लाख रुपये के जुर्माना की सजा काट रहा है। नारायण साईं बलात्कार के मामले में ही सजा काट रहे आसाराम बापू का बेटा है।

राम रहीम

खुद को बाबा और भगवान कहने वाले हरियाणा के सिरसा में स्थित संस्था डेरा सच्चा सौदा का प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह इंसां अपने आश्रम की दो साध्वियों से बलात्कार और एक पत्रकार की हत्या के आरोप में आजीवन कारावास की सजा भुगत रहा है।
सीबीआई जज के सामने साध्वियों ने अपने कलम बंद बयान में कहा था कि गुरमीत राम रहीम उनका और डेरे की दूसरी युवतियों के साथ गुफा में ले जाकर रेप किया करता था। राम रहीम बलात्कार को माफी बताया करता था। बाबागिरी के साथ साथ फिल्म इण्डस्ट्री में किस्मत आजमाने वाले राम रहीम ने हरियाणा समेत देश के कई हिस्सों में करोड़ों का साम्राज्य खड़ा कर रखा था। 25 अगस्त 2017 को पंचकूला की विशेष सीबीआई अदालत द्वारा डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को रेप केस में दोषी ठहराये जाने के बाद पंचकुला और सिरसा में भडक़े दंगे और प्रशासन की कारवाई में सरकारी आकड़ों के अनुसार 38 मौत हुई।

फलाहारी बाबा

अपनी शिष्या से बलात्कार के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे स्वामी कौशलेंद्र प्रपन्नाचारी महाराज उर्फ फलाहारी बाबा पर छत्तीसगढ़ के बिलासपुर की रहने वाली 21 साल की लॉ स्टूडेंट ने 11 सितंबर 2017 को दुष्कर्म का आरोप लगा कर एफआईआर दर्ज कराया था जिसमें 28 सितंबर 2018 को अलवर की सेशन कोर्ट ने उम्रकैद और 1 लाख रुपये का जुर्माना की सजा दी। राजनीतिक पार्टियों से काफी अच्छे संबंध रखने वाला ये बाबा प्रधानमंत्री से लेकर देश के कई जाने माने लोगों के साथ तस्वीरें दिखा कर लोगों को अर्दब में लेता रहा है।

स्वामी नित्यानंद

दक्षिण भारत में काफी प्रभाव रखने वाले स्वामी नित्यानंद का वर्ष 2010 में तमिल अभिनेत्री रंजीता के साथ आपत्तिजनक वीडियो वायरल होने के बाद तहलका मच गया था। इस मामले पर कोर्ट ने भी ये स्वीकार किया कि नित्यानंद के रंजीता के साथ संबंध बने थे। मगर दोनों की सहमति से। इसके बाद अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने नित्यानंद को संत मानने से इंकार कर दिया था।

दाती महाराज

राजस्थान के पाली जिले में जन्मे और दिल्ली के मशहूर शनिधाम मंदिर के संस्थापक, महन्त दाती महाराज काफी कांड कर चुके हैं। सेलिब्रिटी बाबाओं में शामिल दाती महाराज पर मंदिर के अंदर ही रेप करने के आरोप हैं। इसी साल एक 25 वर्षीय लडक़ी ने दाती महाराज पर रेप करने का आरोप लगाया है।

सेक्स रैकेट का स्वामी भीमानंद

महाराज चित्रकूट वाले के नाम से मशहूर स्वामी भीमानंद का असली नाम शिवमूरत द्विवेदी है। खुद को इच्छाधारी संत कहने वाला स्वामी भीमानंद नागिन डांस के लिए हमेशा चर्चा में रहा। उस पर आरोप है कि प्रवचन के बहाने वह लड़कियों को फंसाकर सेक्स रैकेट में शामिल कर जिस्म फरोशी का धंधा करता है। दिल्ली पुलिस ने उसे लाजपत नगर से गिरफ्तार किया था।

स्वामी प्रेमानंद

स्वामी प्रेमानन्द को 13 लड़कियों से रेप का दोषी ठहराया जा चुका है। जेेल में सजा काट रहे स्वामी प्रेमानंद की शक्ल सत्य साईं बाबा से हूबहू मिलती है। यह उसके मशहूर होने की बड़ी वजह रही है।

बाबा ज्योतिगिरी

सोशल मीडिया पर बाबा ज्योतिगिरी महाराज का एक अश्लील वीडियो वायरल होने पर गुरुग्राम पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामला आगे बढ़ाया। बाबा ज्योतिगिरी पर उनकी ही शिष्याओं ने यौन शोषण का आरोप लगाया है।

वीरेंद्र देव दीक्षित

दिल्ली में आश्रम चला रहे वीरेंद्र देव दीक्षित हैं पर यौन शोषण का आरोप लगा तो इनके आश्रम में छापेमारी कर वहां से कई लड़कियों को मुक्त कराया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related

इंसानियत के लिए डरावनी है यूएन की ताजा जलवायु परिवर्तन रिपोर्ट

Post Views: 86 संयुक्त राष्ट्र की जारी ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार अगले 20 साल में दुनिया के तापमान में 1.5 डिग्री सेल्शियस इजाफा तय है, ग्लोबल वार्मिंग की इस रफ्तार पर भारत में चरम गर्म मौसम की आवृत्ति में वृद्धि की उम्मीद। ● जनपथ धरती की सम्‍पूर्ण जलवायु प्रणाली के हर क्षेत्र में पर्यावरण में […]

पेगासस जासूसी और भारतीय लोकतंत्र के इम्तिहान की घड़ी

Post Views: 80 ● एमके वेणु जब सरकारें यह दिखावा करती हैं कि वे बड़े पैमाने पर हो रही ग़ैर क़ानूनी हैकिंग के बारे में कुछ नहीं जानती हैं, तब वे वास्तव में लोकतंत्र की हैकिंग कर रही होती हैं। इसे रोकने के लिए एक एंटीवायरस की सख़्त ज़रूरत होती है। हमें लगातार बोलते रहना […]

पंजाबी गीतों में किसान आंदोलन की गूंज

Post Views: 179 नए कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ बैठे किसानों को पंजाब के गायकों का भी व्यापक समर्थन मिल रहा है। नवंबर के अंत से जनवरी के पहले सप्ताह तक विभिन्न गायकों के दो सौ अधिक ऐसे गीत आ चुके हैं, जो किसानों के आंदोलन पर आधारित हैं। कंवल ग्रेवाल और हर्फ चीमा की नई […]

error: Content is protected !!
Designed and Developed by CodesGesture