स्वातंत्र्य समर के अग्निनायक सुभाष चन्द्र बोस

एक गुलाम, दहशतजदा कौम की धमनियों में लावा भरना असम्भव कार्य था जो सुभाष बाबू ने कर दिखाया। उस मैदान पर खड़े होने से भुरभुरी होती है। लगता है जैसे भारतवासी होना अन्तरराष्ट्रीय गौरव की बात है।  ● कनक तिवारी / कृष्ण कांत  आज देश नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की 125वीं जयंती मना रहा है। […]

हसरत मोहानी : इश्क़ की तहजीब से इंक़लाब के एलान तक

हसरत मोहानी, एक ऐसा मकबूल शायर जिसकी ज़िंदगी इश्क़ और इंक़लाब के बीच बसर हुई। मादर-ए-वतन से बेपनाह मोहब्बत करने वाले मोहानी ने ‘चुपके-चुपके रात-दिन आंसू बहाना याद है’, जैसी मशहूर ग़ज़ल लिखी तो ‘इंकलाब-जिंदाबाद’ जैसा कालजयी नारा गढ़ा। मोहानी उन लोगों में से नहीं थे जो किसी सांचे में ढल पाते, उन्होंने वक्त का […]

सरदार पटेल : जिन्होंने राजाओं को ख़त्म किए बिना ख़त्म कर दिए रजवाड़े

● रेहान फ़ज़ल ऑल इंडिया रेडियो ने अपने 29 मार्च, 1949 को रात के 9 बजे के बुलेटिन में सूचना दी कि सरदार पटेल को दिल्ली से जयपुर ले जा रहे विमान से संपर्क टूट गया है। अपनी बेटी मणिबेन, जोधपुर के महाराजा और सचिव वी शंकर के साथ सरदार पटेल ने शाम पाँच बजकर […]

विभूति बृहत्रयी को जयंती व बलिदान दिवस (31अक्तूबर) पर नमन

आजादी की लड़ाई और उसके उपरान्त राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले देश के दो महापुरुषों की जयंती और पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी का आज बलिदान दिवस है। इस अवसर पर कृतज्ञ राष्ट्र इन्हें याद कर रहा है। ● सतीश कुमार  लौहपुरुष सरदार पटेल 31अक्तूबर राष्ट्रशिल्पी  सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती है। […]

स्वतंत्रता संग्राम के नायक

हिन्दुस्तान को आजादी आसानी से नहीं मिली है। आजादी के लिए अगणित देशवासियों ने खून पसीना एक कर दिया था। एक सोच, एक संकल्प और एक विश्वास के साथ अपनी जान की बाजी लगा दी कई स्वतंत्रता सेनानियों ने, तब सैकडों वर्ष की गुलामी के दंश से छुटकारा मिल सका हमेें। आज हम जिस स्थिति […]

error: Content is protected !!