इस देश को सिर्फ़ ‘हम दो, हमारे दो’ चला रहे हैं: राहुल गाँधी

Read Time: 4 minutes

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह पर निशाना साधते हुए कहा, “परिवार नियोजन के लिए पहले एक नारा था ‘हम दो हमारे दो।’ जैसे अब कोरोना अलग रूप में आ गया है, उसी तरह यह नारा भी दूसरे रूप में आ गया है। देश को चार लोग चला रहे हैं-हम दो हमारे दो।

● पूर्वा स्टार ब्यूरो 

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने संसद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह के नेतृत्व पर सीधा निशाना साधते हुए कहा कि इस देश को सिर्फ़ चार लोग चला रहे हैं। कांग्रेस नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को ‘हम दो, हमारे दो’ के सिद्धांत पर चला रहे हैं। हालाँकि उन्होंने उन चार लोगों के नाम नहीं लिए जिनकी तरफ़ उनका इशारा था। लेकिन कृषि क़ानूनों पर हमला करते हुए यह ज़रूर कहा कि इन कृषि क़ानूनों से किन पूंजीपतियों को फ़ायदे होंगे। राहुल मुख्य तौर पर कृषि क़ानूनों को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साध रहे थे।

राहुल संसद के बजट सत्र के दौरान लोकसभा में बोल रहे थे। उन्होंने कहा, ‘पहले क़ानून की सामग्री यह है कि देश में कहीं भी खाद्यान्नों, फलों और सब्जियों की असीमित खरीद हो सकती है। यदि खरीद देश में कहीं भी असीमित है तो मंडियों में कौन जाएगा? पहले क़ानून की सामग्री क्या है मंडियों को ख़त्म करो।’ 

राहुल गांधी ने दूसरे कृषि क़ानून को लेकर कहा, ‘दूसरे क़ानून की सामग्री यह है कि बड़े व्यवसायी जितना चाहें उतना अनाज, फल और सब्जियाँ स्टोर कर सकते हैं। वे जितना चाहें उतना जमा कर सकते हैं। दूसरे क़ानून की सामग्री आवश्यक वस्तु अधिनियम को समाप्त करना है। यह भारत में असीमित जमाखोली को शुरू करने के लिए है।’

कांग्रेस नेता ने लोकसभा में तीसरे कृषि क़ानून को लेकर कहा, ‘तीसरे क़ानून की सामग्री यह है कि जब कोई किसान अपनी फ़सलों की सही क़ीमत मांगने के लिए भारत के सबसे बड़े व्यापारी के सामने जाता है तो उसे अदालत में जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी।’

इसके साथ ही राहुल ने इन कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ आंदोलन का ज़िक्र किया। उन्होंने कहा, ‘यह किसानों का विरोध नहीं है, यह पूरे देश का विरोध है। किसान सिर्फ़ रास्ता दिखा रहे हैं।’

राहुल ने कहा कि जब ये क़ानून लागू होंगे तो इस देश के किसान, मज़दूर और छोटे व्यापारियों का धंधा बंद हो जाएगा। इससे किसानों के खेत चले जाएंगे, उसे सही दाम नहीं मिलेगा, छोटे दुकानदारों की दुकान बंद हो जाएगी और सिर्फ़ ‘हम दो और हमारे दो’ इस देश को चलाएँगे।

इस बीच राहुल गांधी ने कहा, “परिवार नियोजन के लिए पहले एक नारा था ‘हम दो हमारे दो।’ जैसे अब कोरोना अलग रूप में आ गया है, उसी तरह यह नारा भी दूसरे रूप में आ गया है। राहुल गांधी ने कहा कि देश को चार लोग चला रहे हैं-हम दो हमारे दो। हर एक आदमी उनके नाम जानता है। ‘हम दो, हमारे दो’ यह किसकी सरकार है।” राहुल ने इसको ट्वीट भी किया। 

राहुल ने यह भी कहा कि नोटबंदी और जीएसटी यानी गब्बर सिंह टैक्स लागू करके सरकार ने छोटे व्यापारियों को ख़त्म कर दिया है, अब वे कृषि क़ानूनों को लागू करके किसानों को ख़त्म करना चाहते हैं।

बता दें कि किसान इन कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ क़रीब तीन महीने से दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने अब एलान किया है कि वे 18 फ़रवरी को 4 घंटे तक देश भर में रेल रोकेंगे। इसका वक़्त दिन में 12 से 4 बजे तक निर्धारित किया गया है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related

किसान आन्दोलन से जुड़ने दिल्ली पहुँच रही हैं 40 हज़ार महिलाएं

Post Views: 14 पंजाब के अलग-अलग इलाक़ों से तकरीबन 40 हज़ार महिलाएं इस आन्दोलन में भाग लेने के लिए आ रही हैं, वे ट्रैक्टरों, बसों और मिनी-बसों में बैठ कर अपने-अपने गाँवों से कूच कर चुकी हैं या करने वाली हैं। ● पूर्वा स्टार ब्यूरो कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ दिल्ली के पास पिछले तीन महीने […]

डीजल-पेट्रोल के बढ़े दाम पर संसद में हंगामा, राज्यसभा स्थगित

Post Views: 11 संसद के बजट सत्र का दूसरा हिस्सा आज ज्यों ही शुरू हुआ, डीजल पेट्रोल की बढ़ती क़ीमतों को लेकर विपक्ष ने जोरदार हंगामा किया। कांग्रेस के सांसद डीजल-पेट्रोल की बढ़ी क़ीमतों पर चर्चा कराने की मांग कर रहे थे। ● पूर्वा स्टार ब्यूरो संसद के बजट सत्र का दूसरा हिस्सा आज ज्यों […]

सब कुछ एक जैसा ही क्यों हो!

Post Views: 12 इस देश की प्रकृति में कहीं भी एकरूपता नहीं है। उत्तर में पहाड़ हैं, पश्चिम में रेगिस्तान, दक्षिण में समुद्र है और पूर्व तक फैला विशाल उपजाऊ मैदान। सैकड़ों दो-आबे हैं। यहाँ हर एक की आस्था भिन्न है, बोली अलग है और कई बार तो परस्पर विपरीत भी है। तब कैसे किसी एक सार्वभौमिक […]

error: Content is protected !!
Designed and Developed by CodesGesture