पंचायत चुनाव : पिछले पांच चुनावों में आरक्षण की स्थिति देख तय होगी आगे की राह

Read Time: 3 minutes

● आरक्षण के लिए डाटा फीडिंग का कार्य शुरू
● दो दिन में पूरा होगा परिसीमन का कार्य

● पूर्वा स्टार ब्यूरो

ग्राम पंचायतों में जाति व लिंंग के आधार पर आरक्षण की सूची अभी तक जारी न हो सकने से भावी प्रत्याशियों के कदम अभी ठिठके हुए हैं। सबको जल्दी ही आनेेवाली आरक्षण सूची का इन्तजार है। उधर, शासन में पंचायत चुनावों में आरक्षण तय करने की प्रक्रिया तेज कर दी गई है। इसके लिए वर्ष 1995 से 2015 तक हुए पांच चुनावों के आरक्षण का आकलन करने के लिए आनलाइन फीडिंग की जा रही है। ग्राम पंचायत के साथ-साथ जिला पंचायत अध्यक्ष एवं क्षेत्र पंचायत प्रमुख पदों पर रहे आरक्षण की फीडिंग भी की जा रही है।

गोरखपुर। ग्राम पंचायतों का कार्यकाल समाप्त होने के बाद अब अगले चुनावों की धमक से गांवों का राजनीतिक माहौल गुलजार है। चाय पान की दुकानों से लेकर शाम के अलाव तक जोड़ तोड़ और जोर-आजमाइश शुरू हो गई है। अपनी अपनी दावेदारी के बीच संभावित प्रत्याशी ग्राम पंचायत में आरक्षण की स्थिति जानने के लिए परेशान हैं। पर, अभी तक आरक्षण की स्थिति साफ नहीं हुई है जिससे अभी आरक्षण सूची जारी नहीं होने से सम्भावित उम्मीदवारों के कदम रफ्तार नहीं पकड़ सके हैं।

पिछले पांच चुनावों का आरक्षण देख तय होगी आगे की राह 

हालांकि आने वाले चुनाव में ग्राम पंचायतों के आरक्षण को लेकर कवायद शुरू हो चुकी है। पिछले पांच चुनावों में आरक्षण की स्थिति का आकलन करने के बाद आगे की राह तय होगी।

आसन्न चुनाव में आरक्षण की स्थिति क्या रहेगी, यह सवाल सभी की जुबान पर है। ब्लाक से लेकर जिले तक का चक्कर लगाने के बावजूद कोई अपनी ग्राम पंचायत में आरक्षण की स्थिति को लेकर किसी को संतोषजनक जवाब नहीं मिल रहा है। सबकुछ शासन की मंशा पर निर्भर है। माना जा रहा है कि पिछले पांच चुनावों का आरक्षण देख इस बार आगे की राह तय होगी। इसी के तहत शासन ने पिछले पांच चुनावों का विवरण मंगाया है। ग्राम पंचायतों में इन पांच चुनावों की स्थिति जानने के लिए 1995, 2000, 2005, 2010 एवं 2015 के चुनाव के आरक्षण का आकलन करने के लिए आनलाइन फीडिंग की जा रही है। 

ग्राम पंचायत के साथ-साथ जिला पंचायत अध्यक्ष एवं क्षेत्र पंचायत प्रमुख पदों पर रहे आरक्षण की फीडिंग की जा रही है। जिला पंचायत राज अधिकारी (डीपीआरओ) हिमांशु शेखर ठाकुर ने बताया कि पिछले पांच चुनाव की स्थिति की फीडिंग चल रही है।

पिछले पांच चुनावों में ग्राम पंचायतों की आरक्षण की स्थिति के लिए फीडिंग की जा रही है। उसके बाद शासन से गाइड लाइन आने की उम्मीद है। गाइड लाइन आने के बाद आरक्षण तय किया जाएगा। 

इंद्रजीत सिंह, मुख्य विकास अधिकारी

जिलों में डाटा फीडिंग का काम पूरा होने के बाद शासन की ओर से गाइड लाइन तैयार की जाएगी। उसी के अनुसार आरक्षण तय किया जाएगा। परिसीमन का काम भी एक से दो दिनों में पूरा हो जाएगा। उसके बाद आरक्षण की स्थिति साफ हो जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related

कांग्रेस नेताओं को जमानत, कोर्ट ने कहा- लोकतंत्र में आन्दोलन का सबको अधिकार

Post Views: 102 ● यशवंत कुमार पांडेय – पूर्वा स्टार ब्यूरो गोरखपुर। सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द मोदी के होर्डिंग पर कालिख पोतने के आरोपी कांग्रेस नेताओं को आज जमानत मिल गई। बेल पर बाहर निकले नेताओं को कार्यकर्ताओं ने फूल मालाओं से लाद दिया और नारों से स्वागत किया।  इसके पहले दोपहर बाद करीब दो बजे सैकड़ों […]

पेट्रोलियम पदार्थों के मूल्य वृद्धि के खिलाफ गोरखपुर में प्रदर्शन कर रहे कांग्रेसियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

Post Views: 86 गोरखपुर। पेट्रोलियम पदार्थों में बेतहाशा मूल्य वृद्धि के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस नेताओं-कार्यकर्ताओं और पुलिस में तीखी झड़प हुई। इसके बाद कोतवाली पुलिस ने महानगर कांग्रेस अध्यक्ष आशुतोष तिवारी, युवा कांग्रेस के जिलाध्यक्ष अभिजीत पाठक आदि को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस गिरफ्तार नेताओं को जेल भेजने की तैयारी में है। जबकि गिरफ्तार नेताओं […]

कांग्रेस की पदयात्रा रोकने पर पुलिस से हुई नोकझोक

Post Views: 55 गोरखपुर। देश भर में चल रहे किसान आंदोलन के समर्थन में यूपी कांग्रेस ने राज्य के सभी जिलों में पदयात्राओं का आयोजन और धरना प्रदर्शन किया। गोरखपुर में उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव त्रिभुवन नारायण मिश्र, जिलाध्यक्ष निर्मला पासवान और शहर अध्यक्ष आशुतोष तिवारी के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा निकाली […]

error: Content is protected !!
Designed and Developed by CodesGesture