अमेरिका ही नहीं, पूरी दुनिया में लोकतंत्र ख़तरे में है!

Read Time: 5 minutes

किसी ने भी नहीं सोचा होगा कि दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश कहे जाने वाले अमेरिका में एक दिन वे इस तरह के नज़ारे देखेंगे। 

● मुकेश कुमार

किसी ने भी नहीं सोचा होगा कि दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश कहे जाने वाले अमेरिका को एक दिन अपने ही चुने हुए राष्ट्राध्यक्ष से इस तरह खतरा पैदा हो जाएगा। गुरुवार को अमेरिका में जो घटा वह पूरी दुनिया को हतप्रभ कर देने वाला है। एक बार अमेरिका के महाशक्ति होने का दंभ टूटा था जब 9/11 को ट्रेड टॉवर पर हमला हुआ था और इस बार की घटना ने अमेरिकी लोकतंत्र को बेनकाब कर दिया है। 

अमेरिका संसद पर ट्रम्प समर्थकों के हमले को कुछ लोग अपवाद बताकर इसके महत्व को कम करके आँक रहे हैं। उनके हिसाब से ये घटना एक व्यक्ति यानी ट्रंप के राष्ट्रपति बनने से घटित हुई है। उनके मुताबिक़, चूँकि ट्रंप अयोग्य, अक्षम और मानसिक रूप से असंतुलित व्यक्ति हैं, इसलिए ऐसा हुआ, वर्ना इसके होने की गुंज़ाइश अमेरिकी व्यवस्था में कतई नहीं है। लेकिन ये बात सही नहीं है।

ट्रंप व्यक्ति नहीं, प्रवृत्ति का नाम

ट्रंप एक व्यक्ति नहीं, प्रवृत्ति का नाम है। वे उस राजनीति की अगुआई कर रहे हैं जो अमेरिका पर इस समय हावी है। ये राजनीति नस्लवाद की है, भेदभाव की है और बड़ी पूँजी के खेल में शामिल लोगों द्वारा पोषित एवं संचालित है। ट्रंप कुछ न कर पाते अगर उनके पीछे अमेरिका के बड़े हिस्से का समर्थन न होता, उनकी पार्टी उनके साथ न होती और उनकी राजनीति को फंड करने वाले थैलीशाह न होते।

वास्तव में उनका चुना जाना ही एक ऐसी दुर्घटना थी, जो अमेरिकी लोकतंत्र की कमज़ोरियों का अलार्म बजा रही थी। चुनाव जीतने के लिए उन्होंने हर हथकंडा आज़माया था। यहाँ तक कि चुनाव में रूसी हस्तक्षेप के ज़रिए भी लाभ उठाने की बात भी सामने आई थी। हिलरी क्लिंटन को बदनाम करने के लिए वे जिस स्तर तक चले गए थे वह तो अनोखा ही था। 

ट्रंप ने चार साल तक जिस तरह से राज किया, वह और भी बड़ी दुर्घटना थी, क्योंकि अमेरिकी लोकतंत्र उनकी मनमानियों पर अंकुश नहीं लगा सका। कोरोना महामारी के दौरान उन्होंने जिस तरह से व्यवहार किया वह लाखों लोगों की मौत का कारण बना, मगर वह उनका कुछ नहीं बिगाड़ सकी।

निरंकुश होते गए ट्रंप

सबसे ख़तरनाक़ था उनके कार्यकाल का अंतिम वर्ष, जब उन्होंने कोरोना से निपटने से लेकर राष्ट्रपति चुनाव तक अत्यंत निरंकुश ढंग से व्यवहार किया और कोई उन्हें रोक नहीं सका। वे अपने ही मंत्रियों, अधिकारियों और पार्टी को बेधड़क होकर धता बताते रहे और कोई उनका बाल भी बाँका नहीं कर सका। कोई पूछे कि क्या पिछले चार साल अमेरिका में लोकतंत्र था और अगर था तो वह कैसा लोकतंत्र था? वहाँ की तमाम लोकतांत्रिक संस्थाएं ट्रंप को रोकने में नाकाम रहीं। मीडिया अगर अपनी भूमिका निभा भी रहा था तो उससे ट्रंप की राजनीति पर क्या असर पड़ा, वह तो और भी मज़बूत होती गई।

चिंता अब इस बात की नहीं है कि अमेरिका में गुज़रे चार साल में क्या हुआ। अब सोचा ये जाना चाहिए कि क्या अमेरिका उन चार सालों को धो-पोछकर आगे बढ़ पाएगा?

ट्रंप को मिला जोरदार समर्थन

ट्रंप की सियासत और अमेरिकी समाज की मनोदशा बता रही है कि अमेरिकी लोकतंत्र गहरे संकट में जा फँसा है और उसका तुरंत उबर पाना कठिन होगा। ट्रंप चुनाव भले ही हार गए हों मगर उन्हें ज़बरदस्त वोट मिले हैं। वास्तव में अभी तक के रिपब्लिकन उम्मीदवारों में सबसे ज़्यादा। ग़ौरतलब है कि उनके मतदाताओं में ये बात भर दी गई है कि ट्रंप से जीत छीन ली गई है, चुरा ली गई है। वे गुस्से से भरे हुए हैं और उनमें किसी तरह का परिवर्तन नहीं आने जा रहा। ट्रंप के मतदाताओं की मानसिक संरचना को भी समझना होगा। वे श्रेष्ठताबोध और नस्लवादी जोश से भरे हुए लोग हैं। बढ़ती बेरोज़गारी ने उनकी इस सोच को और भी धार दे दी है। ट्रंप जैसे नेता उनमें उन्मादी जोश भर रहे हैं। इन्हें बाईडेन की सौम्य, शालीन राजनीति शांत नहीं कर पाएगी, ठीक उसी तरह जैसे दुनिया के दूसरे हिस्सों में नहीं कर पा रही है। 

वास्तव में जो कुछ अमेरिका में हुआ और हो रहा है उसे वैश्विक संदर्भों में भी देखा जाना चाहिए। पूरी दुनिया में जहाँ-जहाँ भी लोकतंत्र है, ख़तरे में है। हर जगह लोकतंत्र विरोधी ताक़तें मज़बूत हो रही हैं, सत्ता पर काबिज़ हो रही हैं और ठीक वही सब कर रही हैं जो अलोकंतांत्रिक है, मानवता विरोधी है।

भारत में भी ख़तरा

यूरोप के अधिकांश देश इस नस्लवादी दक्षिणपंथी राजनीति की चपेट में हैं। हर जगह अल्पसंख्यकों, उदारवादियों को निशाना बनाया जा रहा है। यहाँ भारत का उदाहरण भी लिया जा सकता है, जहाँ पिछले छह वर्षों में तमाम लोकतांत्रिक संस्थाएं ध्वस्त होती जा रही हैं। यहाँ तक कि न्यायपालिका तक संदेह के घेरे में आ चुकी है। 

हालाँकि बहुत से लोगों ने अमेरिका को लोकतंत्र का मक्का बना रखा है मगर ये बात याद रखी जानी चाहिए कि वह कभी भी पूर्ण रूप से स्वस्थ लोकतंत्र था ही नहीं। उसके लोकतंत्र पर आर्थिक और सैन्य महाशक्ति होने की कलई लगी हुई थी, जिस पर सब मोहित होते रहते थे, वरना उसका अंतरराष्ट्रीय व्यवहार बताता है कि लोकतंत्र उसका मुखौटा भर था। वह दुनिया भर में लोकतंत्र लाने के नाम पर हमले करता रहा है, देशों को बर्बाद करता रहा है। इराक, अफ़गानिस्तान, लीबिया आदि दर्ज़नों ऐसे देश हैं जो इसीलिए बरबाद हो गए। इसके विपरीत वह तानाशाहों और राजशाहियों को समर्थन देता रहा ताकि उनसे फ़ायदा उठा सके। यही नहीं, वह अपने निर्णय और नीतियाँ थोपने और दरोगागीरी करने के लिए भी कुख्यात रहा है।    

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related

किसान आंदोलन के नये राग और सरकार की बढ़ती मुश्किलें

Post Views: 21 मौजूदा किसान आंदोलन में नितांत नए राग के रूप में अंकित हो गए स्वरों ने किसान आंदोलन की परिधि को खेत और गाँव से विस्तार देकर शहरों तक खींच दिया है। इन नए स्वरों ने किसान आंदोलन के करघे में मज़दूर एकता का नया धागा बुन डाला है। यह न केवल बीजेपी की आर्थिक नीतियों के […]

कांग्रेस नेताओं को जमानत, कोर्ट ने कहा- लोकतंत्र में आन्दोलन का सबको अधिकार

Post Views: 98 ● यशवंत कुमार पांडेय – पूर्वा स्टार ब्यूरो गोरखपुर। सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द मोदी के होर्डिंग पर कालिख पोतने के आरोपी कांग्रेस नेताओं को आज जमानत मिल गई। बेल पर बाहर निकले नेताओं को कार्यकर्ताओं ने फूल मालाओं से लाद दिया और नारों से स्वागत किया।  इसके पहले दोपहर बाद करीब दो बजे सैकड़ों […]

पेट्रोलियम पदार्थों के मूल्य वृद्धि के खिलाफ गोरखपुर में प्रदर्शन कर रहे कांग्रेसियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

Post Views: 85 गोरखपुर। पेट्रोलियम पदार्थों में बेतहाशा मूल्य वृद्धि के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस नेताओं-कार्यकर्ताओं और पुलिस में तीखी झड़प हुई। इसके बाद कोतवाली पुलिस ने महानगर कांग्रेस अध्यक्ष आशुतोष तिवारी, युवा कांग्रेस के जिलाध्यक्ष अभिजीत पाठक आदि को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस गिरफ्तार नेताओं को जेल भेजने की तैयारी में है। जबकि गिरफ्तार नेताओं […]

error: Content is protected !!
Designed and Developed by CodesGesture