राजनीति में विलक्षण शख्सियत थे अहमद पटेल

Read Time: 2 minutes

तरुण गोगोई के तत्काल बाद कांग्रेस के एक और कद्दावर नेता अहमद पटेल के निधन की खबर दुखद है। अहमद पटेल साहब राजनीति में अपने ढंग की एक विलक्षण शख्सियत थे।

● सतीश कुमार 

गुजरात के भरूच जिले के अंकलेश्वर में पैदा हुए अहमद पटेल ने तीन बार (1977, 1980,1984) लोकसभा सांसद और पांच बार (1993,1999, 2005, 2011, 2017 से वर्तमान तक) राज्यसभा सांसद के रूप करीब चार दशक का संसदीय जीवन जिया था, लेकिन कभी भी मंत्री पद स्वीकार नहीं किया और संगठन एवं संगठनात्मक नेतृत्व की सेवा तक ही अपने को सीमित रखा। देश की राजनीति में वह बड़े रसूख वाले थे, पर कभी अपने परिवार को राजनीति में आगे नहीं किया।

गुजरात में हर दलीय निष्ठा से जुड़े लोग उनसे अपने काम करा लेने का दंभ रखते थे। वे ऐसे राजनीतिक चाणक्य थे, जो लंबे समय तक राजनीति की केन्द्रीय धुरी में शुमार थे, लेकिन कभी उनका चेहरा मीडिया स्क्रीन पर नहीं रहता था। मीडिया पर उनकी मजबूत पकड़ के चर्चे सुने जाते थे, लेकिन मीडिया प्रचार से सदैव अपने को दूर रखते रहे।

कांग्रेस अध्यक्ष के लंबे समय तक वह सलाहकार रहे, लेकिन सोनिया गांधी, राहुल गांधी आदि के साथ भी उनके चित्र पब्लिक डोमेन में बहुत कम दिखेंगे। दल के हर संकट में संकटमोचक भूमिका वाली साख थी, पर उसकी वाहवाही और शोहरत से बचते थे। लोगों के बीच भी दिखें, तो इतनी सहजता से बैठे नजर आते कि कोई आभास भी नहीं होता कि राजनीति का एक कद्दावर खिलाड़ी भी यहां बैठा है। 

राजनीतिक प्रबन्धन के अपने महारथ के नाते विरोधियों के निशाने पर भी रहते थे, पर उनकी सत्ता के सहारे फेंके गये जाल कभी उनको लपेट में ले न सके। कुल मिलाकर लीक से कुछ अलग ढर्रे वाले राजनीतिक खिलाड़ी, राजनीतिक एकनिष्ठा की मिसाल और एक अजातशत्रु सी शख्सियत थे अहमद पटेल।

(सतीश कुमार राजीव गांधी स्टडी सर्किल के राष्ट्रीय समन्वयक एवं महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ वाराणसी में राजनीति विज्ञान विभाग के पूर्व आचार्य/पूर्व विभागाध्यक्ष व नेहरू स्टडी सेंटर के निदेशक हैं।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related

यूपी में कांग्रेस की जड़ें मजबूत करने को चल रहे ‘संगठन सृजन अभियान’ ने कार्यकर्ताओं में उत्साह बढाया

Post Views: 81 कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं को यूपी के एक-एक जिले का प्रभारी बनाया गया है। सभी को संबंधित जिले में 3 जनवरी से 25 जनवरी तक लगातार कैंप कर, उस जिले की सभी न्याय पंचायतों में कांग्रेस का एक मजबूत संगठन खड़ा करने की जिम्मेदारी दी गई है। ● आलोक शुक्ल लखनऊ। तीन […]

किसान आंदोलन के समर्थन में भाजपा नेता ने पार्टी छोड़ी

Post Views: 40 ● पूर्वा स्टार ब्यू्रो गोरखपुर। गोरखपुर के युवा भाजपा नेता प्रबल प्रताप शाही ने नए कृषि कानूनों के विरोध और किसान आंदोलन के समर्थन में पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। श्री शाही गोरखपुर में भाजपा के के स्वच्छता अभियान प्रकल्प के संयोजक थे। उन्होंने नौ जनवरी को भाजपा के राष्ट्रीय, प्रदेश और क्षेत्रीय अध्यक्ष को […]

अमेरिका ही नहीं, पूरी दुनिया में लोकतंत्र ख़तरे में है!

Post Views: 17 किसी ने भी नहीं सोचा होगा कि दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश कहे जाने वाले अमेरिका में एक दिन वे इस तरह के नज़ारे देखेंगे।  ● मुकेश कुमार किसी ने भी नहीं सोचा होगा कि दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश कहे जाने वाले अमेरिका को एक दिन अपने ही चुने […]

error: Content is protected !!